Breaking News

रायपुर:छत्तीसगढ़ मे सरकारी दफ्तरों और मंत्रालय मे मिट्टी के बर्तनो मे परोसा जाएगा भोजन बालोद के तत्कालीन कलेक्टर राजेश राणा ने की थी वर्ष 2015 मे पहल..

छत्तीसगढ़ मे सरकारी दफ्तरों और मंत्रालय मे मिट्टी के बर्तनो मे परोसा जाएगा भोजन बालोद के तत्कालीन कलेक्टर राजेश राणा ने की थी वर्ष 2015 मे पहल..

रायपुर। छत्तीसगढ़ में अब जल्द ही मंत्रायल या किसी भी सरकारी दफ्तर में होने वाले बैठक या आयोजन में नेता और मंत्रियों को मिट्टी के बर्तनों में खाना परोसा जाएगा. जिसमें कप प्लेट से लेकर पानी की बोतल भी मिट्टी के ही बनाए जाएंगे. ग्रामोद्योग विभाग ने ये प्रस्ताव तैयार करके सभी विभागों को भेज दिया है और वहां से जैसे ही इस प्रस्ताव को मंजूरी मिलती है इस प्रयोग को क्रियान्वित भी कर दिया जाएगा. जिसके बाद मंत्रालय में सभी को, चाहे वह मंत्री हो या कोई अन्य, उन्हें मिट्टी के बर्तन में ही खाना दिया जाएगा. वहीं मंत्रालय और सरकारी दफ्तरों से स्टील और अन्य धातू के बर्तनों को हटा दिया जाएगा.

बता दें अगर छत्तीसगढ़ में यह प्रयोग सफल हो जाता है तो देशभर में वह अपनी तरह का पहला ऐसा राज्य होगा जो VIP कल्चर में मिट्टी की महक लेकर आएगा. ग्रामोद्योग विभाग के मंत्री रुद्र कुमार का कहना है कि ऐसा करने से ग्रामोद्योगों को बढ़ावा मिलेगा और रोजगार के अवसर निर्मित होंगे. साथ ही इसके कई तरह के स्वास्थ्य लाभ भी हैं. इसलिए यह प्रस्ताव पेश किया और अगर इसे मंजूरी मिल जाती है तो जल्द ही मंत्रालय और सरकारी दफ्तरों में स्टील की जगह मिट्टी के बर्तन देखने को मिलेंगे.

आपको बता दे के छत्तीसगढ़ मे ईस पहल की शुरुआत वर्ष 2015 मे बालोद जिले के तत्कालीन कलेक्टर श्री राजेश सिंह राणा जी ने की थी जिससे जिले की जनता के साथ साथ छत्तीसगढ़ की जनता ने भी सराहनीय कदम बताया था श्री राणा स्वयं अपने कार्यालय़ एवं निज निवास मे मिट्टी के बने घड़े,गिलास का उपयोग करते थे एवं विभिन्न त्यौहारो मे मिट्टी के बने दियो का वितरण करते थे एवं घर एवं कार्यालय की सजावट भी मिट्टी के दियो से करते थे जिससे कुम्हारो के आय मे वृद्धि हो सके और उन्हे ज्यादा से ज्यादा रोजगार मिल पाए…

वर्ष 2015 से लगातार साल दर साल श्री राजेश राणा जी के पहल से कुम्हार समाज को रोजगार के अवसर उपलब्ध होते रहे है बालोद जिले के कलेक्टर रहते हुए भी ईन्होने कलेक्ट्रेट के साथ साथ सभी शासकीय कार्यालयो मे मिट्टी के दिये जलाने एवं शासकीय कार्यालयो मे गर्मी के मौसम मे मिट्टी के घड़े रखने का आदेश दिया था जिससे जिले के कुम्हार समाज के रोजगार मे बढ़ावा हुआ था जिसके बाद बलौदाबाजार के कलेक्टर रहते हुए दीपावली मे स्वयं कलेक्ट्रेट परिसर को मिट्टी के दिये से रौशन किये थे एवं शासकीय कार्यालयों मे आम जनता के लिए मिट्टी के घड़े रखने का आदेश दिये थे उक्त पहल से देश- प्रदेश की जनता को एक संदेश गया था..

Website Design By Mytesta +91 8809666000

Check Also

सबसे पहले सारंगढ़िया, फिर विधायक-श्रीमती उत्तरी जांगड़े, मैने इस्तीफा देने का शब्द नही कहा,तोड मरोड़कर पेश किया जा रहा है मेरे बयान को,माननीय मुख्यमंत्री पर पूर्ण विश्वास, जल्द बनायेंगे सारंगढ़ जिला, जिला निमार्ण के लिये हर संभव कोशिश करूंगी…

🔊 Listen to this सबसे पहले सारंगढ़िया, फिर विधायक-श्रीमती उत्तरी जांगड़े, मैने इस्तीफा देने का …