Breaking News

महासमुन्द: ■ बेटे की मौत के बाद पिता ने किया नेत्र दान, बाकी अंग भी करना चाहते थे दान पर नहीं बनी व्यवस्था..

बेटे की मौत के बाद पिता ने किया नेत्र दान, बाकी अंग भी करना चाहते थे दान पर नहीं बनी व्यवस्था..

महासमुंद। दुनिया को अलविदा कहने के बाद  उमेश लोगों की नजरों में हीरे बन गया.और उसके माता- पिता का यह निर्णय को लोग कापी सहराहना कर रहे है।  बेटे की मौत के बाद पति और परिजनों ने अहम फैसला लेते हुए उसका नेत्र दान कर दिया. जिससे कि उसके आंख से दूसरों की जीवन रौशन हो सके. परिजन तो बेटे का पूरा अंग दान करना चाहते थे, लेकिन अच्छे से व्यवस्था नहीं होने की वजह से अंग दान नहीं किया जा सका.

मामला महासमुंद जिले पिथौरा ब्लांक के अरंड गांव का है. जहां रविवार को 11वीं का छात्र उमेश पटेल खेत में काम कर रहा था, उसी दौरान करंट के चपेट में आ गया. पिता देवानंद पटेल सहित परिजन उसे अस्पताल लेकर पहुंचे, यहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया. होनहार बालक के मौत से दु:खी परिवार ने एक बड़ा फैसला करते हुए पिथौरा में ही नेत्र निकाल ली गई. फिर देर शाम अंतिम संस्कार कर दिया गया.

मृतक के परिजन उमेश की किडनी, लीवर, नेत्र और जरुरत का अंग दान करना चाहते थे, जिससे जरूरतमंद की मदद हो जाए, लेकिन पिथौरा अस्पताल में व्यवस्था नहीं होने और शव पेटीफ्रीजर की भी व्यवस्था नहीं होने की वजह से अंग नहीं निकाला गया.

महासमुंद के प्रभारी सीएमएचओ डॉ आरके परदल ने बताया कि नेत्र के अलावा अन्य अंगों का दान लेने के लिए स्थानीय स्तर पर व्यवस्था नहीं है. जिस वजह से बाकी अंग नहीं निकाला जा सका. इसकी व्यवस्था रायपुर के अस्पतालों में हैं.

Website Design By Mytesta +91 8809666000

Check Also

बलौदाबाजार: राष्ट्रपिता की 150 वीं जयंती पर हर तहसील में बनेंगे बापू-वाटिका पौधे भले कम लगाए, लेकिन जिंदा जरूर रखें: कलेक्टर

🔊 Listen to this ■ राष्ट्रपिता की 150 वीं जयंती पर हर तहसील में बनेंगे …