Breaking News

कसडोल:रमजान का महिना रोजदारो के दिलो को तरोताजा कर देता है..

रमजान का महिना रोजदारो के दिलो को तरोताजा कर देता है..

केशव साहू (रिपोर्टर-9691693646)

कसडोल । रमजान के मुबारक महिने मे मुस्लिम भाई भीषण गर्मी में खुदा की इबादत करते हुए रोजा रख रहे है। नन्हे – नन्हे रोजदारो के चेहरे की चमक देखते बनती है गांव मे ही स्थित मस्जिद में विशेष नमाजे तराबीह हो रही है। मुस्लिम भाईयों के लिए रमजान माह में रोजा बहुत अहम इबादत है। यह एक ऐसी इबादत है, जिसका संबंध इंसान की रुह से है। यह अल्लाह से मोहब्बत का जरिया भी है। रोजदार रोजा की हालत मे अल्लाह के करीब होता है। रमजान का 30 दिनो का रोजा हजरत मोहम्मद सल्ल्लाहू अलैहवस्सल्लम की उम्मत के लिए फर्ज किया गया है। रमजान का महिना सब्र का है और सब्र का मतलब अल्लाह ने जन्नत रख्खा है। अल्लाह को रोजदारो का भुखे प्यासे रहकर इबादत करना बेहद पसंद है।रमजान का महिना रोजदारो के दिलो को तारोताजा कर देता है। पैगम्बर मोहम्मद साहब ने फरमाया हैं कि जिस शख्स ने रमजान का महिना पाया और अल्लाह से अपनी गुनाहो की माफी नही कर पाया वो बदनसीब है। रमजान महिने रोजा रहने के फायदे है, पहला यह कि अल्लाहताला उनकी गुनाहों को माफ कर देता है। दूसरा उसकी छोटी – छोटी मुराद ( दुआ) को पूरी फरमान देता है। मरने के बाद उसे अल्लाहताला उसे जन्नत अता फरमान देता है। रोजा की बिमारियो का ईलाज भी है। रमजान माह का हर एक पल इतना किमती है, जिसका बयान नही किया जा सकता। नफील नमाजो का सबाब फर्ज के बराबर है। रोजा अल्लाहताला की खुशनुदी के लिए रख्खा जाए तो तभी उसे इसका सबाब मिलेगा। यह जानकारी जनाब मोहम्मद सलमान रजा ( मौलाना) ने दी।

Website Design By Mytesta +91 8809666000

Check Also

Breaking news:सरसीवा के गोपाल के पास अज्ञात ट्रक ने एक युवक को ठोकर मार दी, जिससे युवक का मौके पर ही मौत ,गुस्साये परिजन ने की चक्का जाम …

🔊 Listen to this Breaking news:सरसीवा के गोपाल के पास अज्ञात ट्रक ने एक युवक …